PM Kisan Credit Card Apply Online (KCC Loan Scheme)

सरकार ने KCC full form Kisan Credit Card नामक एक विशेष प्रकार का क्रेडिट कार्ड भारतीय किसानों के लिए बनायी गयी है। भारत सरकार ने पहली बार इसका उपयोग 1998 में उन किसानों की मदद के लिए किया था जिन्हें वित्त की आवश्यकता थी। केसीसी कार्यक्रम किसानों को फसल उत्पादन, फसल के बाद की लागत, फसल विपणन और खेती से जुड़ी अन्य कामो के लिये वित्तीय सहायता प्रदान करता है।

योजनाKisan Credit Card (KCC) Scheme
किसान क्रेडिट कार्ड (केसीसी) योजना
लियेभारतीय किसानो के लिये
Mangaed byMinistry of Agriculture and Farmers Welfare
Launched byGovernment of India

Benefits of Kisan Credit Card (किसान क्रेडिट कार्ड की फ़ायदे)

  • किसानों को फसल कटाई के बाद के खर्चों के साथ-साथ कृषि और अन्य खेती संभंधित कामो के लिये वित्तीय आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए ऋण दिया जाता है।
  • किसान 3 लाख रुपये तक का लोन ले सकते हैं।
  • 1.60 लाख रुपये तक के ऋण के लिए जमीन गिरवी रखने की आवश्यकता नहीं होगी।
  • फसल का मौसम समाप्त होने के बाद पुनर्भुगतान किया जा सकता है।
  • क्रेडिट 5 साल तक की अवधि के लिए उपलब्ध है।
  • स्थायी विकलांगता या मृत्यु की स्थिति में केसीसी योजना धारकों के लिए 50,000 रुपये तक का बीमा कवरेज अन्य जोखिमों की स्थिति में 25,000 रुपये का कवर दिया जाता है।

Eligibility for KCC (पात्रता KCC के लिये)

  • कोई भी व्यक्तिगत किसान जो मालिक-कृषक है।
  • किरायेदार किसान, मौखिक पट्टेदार और बटाईदार किसान।
  • वे लोग जो एक समूह से संबंधित हैं और संयुक्त उधारकर्ता हैं। समूह को मालिक-कृषक होना चाहिए।
  • बटाईदार, किरायेदार किसान या मौखिक पट्टेदार केसीसी के लिए पात्र हैं।

Interest Rate/Subsidy/Repayment

Interest Rate >>7% (Annual)
Subsidy >>3%
Repayment
(पुनर्भुगतान)
>>
12 महीने यानि जिस दिन कर्ज लिया है उस दिन से 1 साल के भीतर

Note –

  • अगर दिये गये समय के बाद आप कर्ज का पुनर्भुगतान करते है तो ब्याज ७% (वार्षिक) देना होगा।
  • अगर आप कर्ज का भुगतान दिये गये समय के भीतर करते है तो आपको ३% की सब्सिडी प्राप्त होगी यानि आपको ब्याज केवल ४% (वार्षिक) ही देना होगा।

Security सुरक्षा

1.60 लाख तक >>जमिन गिरवी रखने की जरुरत नहीं।
3.00 लाख तक >>बँक जमिन को गिरवी रख लेती है।

Note –

  • जिन्होंने 1.60 लाख से ज्यादा कर्ज लिया है उनका खेत बंधक हो जाता है जिससे आप खेत को बेच नहीं पायेंगे।
  • कर्ज को पुनर्भुगतान करने के बाद आप बँक से No Due Certificate लेकर बादमे अपने खेत को बेच पायेंगे।

Insurance for KCC (बीमा केसीसी के लिए)

Rs.50,000 >>Permanent Disability OR Death
(स्थायी विकलांगता या मृत्यु की स्थिति में)
Rs.25,000 >>In Case of Other Risks
(अन्य जोखिमों की स्थिति में)

Documents Required (आवश्यक दस्तावेज़)

  • आवेदन फार्म
  • दो पासपोर्ट साइज फोटो
  • आईडी प्रमाण जैसे ड्राइविंग लाइसेंस / आधार कार्ड / मतदाता पहचान पत्र / पासपोर्ट, आदि। कोई भी एक दस्तावेज जमा करना होगा
  • पते का प्रमाण जैसे ड्राइविंग लाइसेंस, आधार कार्ड, आदि
  • राजस्व अधिकारियों द्वारा विधिवत प्रमाणित भूमि स्वामित्व का प्रमाण
  • फसल पैटर्न (उगाई गई फसलें) एकड़ के साथ
  • रु. 1.60 लाख/ रु. 3.00 लाख से अधिक की ऋण सीमा के लिए सुरक्षा दस्तावेज़, जैसा लागू हो
  • मंजूरी के अनुसार कोई अन्य दस्तावेज

Apply for Kisan Credit Card (किसान क्रेडिट कार्ड कैसे बनवाएं)

Offline (ऑफलाइन)

  1. उस बैंक में जाएँ जिसमें आपका मौजूदा खाता है।
  2. बैंक से केसीसी आवेदन फॉर्म मांगें। आप आमतौर पर यह फॉर्म निःशुल्क प्राप्त कर सकते हैं।
  3. आवेदन फॉर्म को पूरी जानकारी के साथ पूरा करें ।
  4. भरे हुए आवेदन फॉर्म को आवश्यक दस्तावेजों के साथ बैंक में जमा करें
  5. बैंक आपके आवेदन में दी गई जानकारी के आधार पर आपकी क्रेडिट आवश्यकताओं और पुनर्भुगतान क्षमता का आकलन करेगा। वे आपके द्वारा प्रदान किए गए विवरण को सत्यापित करने के लिए फ़ील्ड दौरा भी कर सकते हैं।
  6. बैंक आपकी फसलों के लिए वित्त के पैमाने, आपकी भूमि का आकार और अन्य वित्तीय विचारों जैसे कारकों के आधार पर आपकी क्रेडिट सीमा निर्धारित करेगा।
  7. यदि आपका आवेदन स्वीकृत हो जाता है, तो बैंक आपके किसान क्रेडिट कार्ड को मंजूरी दे देगा।
  8. एक बार जब आपका केसीसी स्वीकृत हो जाता है, तो यह सक्रिय हो जाएगा, और आप इसका उपयोग अपनी कृषि आवश्यकताओं के लिए ऋण प्राप्त करने के लिए शुरू कर सकते हैं।

Online (किसान क्रेडिट कार्ड ऑनलाइन अप्लाई)

  1. किसान क्रेडिट कार्ड प्रदान करने वाले बैंक की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर केसीसी आवेदन प्रक्रियाओं और ऑनलाइन सेवाओं के बारे में जानकारी देखें।
  2. बैंक की वेबसाइट पर किसान क्रेडिट कार्ड के लिए आप पात्र है या नहीं वह चेक करे। सुनिश्चित करें कि आप आगे बढ़ने से पहले आवश्यक आवश्यकताओं को पूरा करते हैं।
  3. KCC फॉर्म को अपनी कृषि गतिविधियों के बारे में सटीक और विस्तृत जानकारी के साथ भरें। अपनी भूमि, आपके द्वारा उगाई जाने वाली फसलों और अपेक्षित उत्पादन के बारे में विवरण प्रदान करने के लिए तैयार रहें।
  4. आपको आवश्यक दस्तावेजों की स्कैन की गई प्रतियां अपलोड करनी हैं, जैसे पहचान का प्रमाण, निवास का प्रमाण, भूमि स्वामित्व रिकॉर्ड और अन्य सहायक दस्तावेज। सुनिश्चित करें कि आपके पास इन दस्तावेज़ों की डिजिटल प्रतियां तैयार हैं।
  5. एक बार जब आप फॉर्म भर लें और आवश्यक दस्तावेज अपलोड कर लें, तो आवेदन ऑनलाइन जमा करें।
  6. आवेदन जमा करने के बाद, आपको दस्तावेज़ सत्यापन और फ़ील्ड मूल्यांकन के लिए व्यक्तिगत रूप से बैंक शाखा का दौरा करने या बैंक के प्रतिनिधियों के साथ समन्वय करने की आवश्यकता हो सकती है।
  7. आपके केसीसी आवेदन को मंजूरी देने से पहले बैंक आपकी क्रेडिट जरूरतों और पुनर्भुगतान क्षमता का आकलन करेगा।
  8. यदि आपका आवेदन स्वीकृत हो जाता है, तो बैंक आपको किसान क्रेडिट कार्ड जारी करेगा, और यह आपको व्यक्तिगत रूप से या मेल के माध्यम से प्राप्त होगा।

सरकारी नीति और बैंकिंग नियम समय के साथ बदल सकते हैं, किसान क्रेडिट कार्ड के बारे में नवीनतम जानकारी के लिए अपनी नजदीकी बैंक शाखा से संपर्क करे या उनकी आधिकारिक वेबसाइट पर जाये।

किसान क्रेडिट कार्ड भारतीय किसानों के लिए एक महत्वपूर्ण वित्तीय उपकरण है, जिसे पूरे कृषि चक्र में उनकी विविध ऋण आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। इसका उद्देश्य कृषि उत्पादकता को बढ़ावा देना, अनौपचारिक साहूकारों पर निर्भरता कम करना और भारत में किसानों की वित्तीय भलाई में सुधार करना है।